Dehi Dauri Ka Dela Lyrics | Bhojpuri Song 2024

0

Dehi Dauri Ka Dela Lyrics:- आपको इस ब्लॉग पोस्ट में “देही के दंउरी कदेल” गाने के शब्दों का मतलब और अर्थ जानने को मिलेगा।

Dehi Dauri Ka Dela Lyrics
Dehi Dauri Ka Dela Lyrics

कावना दरद मे तु बारू तु धन हो
राखत नईखु मरद के मन हो
आरे छुवे ना देलु तु काहे बदन हो
भईया के जातटे जिउआ छछन हो
हमार किरिया बा आवा ना भिरीया
त्रिया चरितर ना रानी खेला
राती के राती के दुख बरी देला
देहि हामार दउरी क देला
राती के दुख बरी देला
देहि हामार दउरी क देला

रही मेहर जेकर पासे नु हो
रही मरद काहे उपासे नु हो
तोहर रहन नही तनिको सोहाला पिया
पर गईल कमरिया मे छाला पिया
अईसन झमेला त रोजे नु होला
मरद खातिर तनी दरद झेला
राती के राती के दुख बरी देला
देहि हामार दउरी क देला
राती के दुख बरी देला
देहि हामार दउरी क देला

जब प्यारे के फूलवा खिला जाई हो
भउजी अंगने मे सोहर गावा जाई हो
अब राउर कहल नाही करम पिया
बॉस औरि दरद नाही साहब पिया
सुना ऐ धन तनी कोरवा मे आजा
अंकुश राजा से मजा लेला
राती के राती के दुख बरी देला
देहि हामार दउरी क देला
राती के दुख बरी देला
देहि हामार दउरी क देला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 + 20 =