Braj Chaurasi Kos Me Lyrics | Bhakti Song 2024

0

Braj Chaurasi Kos Me Lyrics:- आपको इस ब्लॉग पोस्ट में “ब्रज चौरासी कोस मे” गाने के शब्दों का मतलब और अर्थ जानने को मिलेगा।

Braj Chaurasi Kos Me

 

राधा
साध्यं
साधनं यस्य राधा
मंत्रो राधा मंत्र दत्री चि राधा
सर्वं राधा जीवनं यस्य राधा
राधा राधा वाचकं तस्य शेषं

बृज चौरासी कोस में
चार गाम निज धाम
बृज चौरासी कोस में
चार गाम निज धाम

वृंदावन अरु मधुपुरी
बरसाना नंद गाव श्री राधा
बरसाना आनंद गाव

राधा मेरी स्वामिनी
मैं राधे को दास
राधा मेरी स्वामिनी
मैं राधे को दास

जनम जनम मोहे दी जियो
श्री वृंदावन वास
श्री राधा श्री वृंदावन वास

वृंदावन सोवन नहीं
नंदी गाव सोग

वृंदावन सोवन नहीं
नंदी गाओ सोग

वंशी वट सो वट नहीं
कृष्ण नाम सो नाम श्री राधा
कृष्ण नाम सो नाम

वृंदावन के वृक्ष को
मरम न जाने कोई
वृंदावन के वृक्ष को
मरम न जाने कोई

दाल दाल अरु पात पात श्री
राधे राधे हो श्री राधा
राधे राधे होये

वृंदावन बाक बनो
भवर करे गुंजा
वृंदावन मणिक बनो
भवर करे गुंजा

दुल्हन प्यारी राधिका
दुल्हा नंद कुमार
श्री राधा
दुल्हा नंद कुमार

धन वृंदावन धाम है
धन वृंदावन नाम
धन वृंदावन धाम है
धन वृंदावन नाम
धनु वृंदावन रसिक जो
सुमिरे श्याम श्याम श्री राधा
सुमिरे श्याम श्याम

लाड लाडे श्री राधिका
मांगू गोद पासार
लाड लाडे श्री राधिका
मांगू गोद पासार

दीजियो स्वामिनी चरण राज
और वृंदावन वास श्री राधा
और वृंदावन वास

राधा राधा रत ताही
सब व्याधा मिट जाये
राधा राधा रतता ही
सब व्याधा मिट जाये
कोटि जन्म की आपदा
राधा नाम से जाये श्री राधा
राधा नाम से जाये

पात पात पर राधिका
कर्रकद पर घनश्याम
पात पात पर राधिका
कन कन पर घर श्याम
अंकित है जिस भूमि पर
श्री वृंदावन धाम
श्री राधा श्री वृंदावन धाम

मनमोहन की मोहिनी राधे जू का रास
मनमोहन की मोहिनी राधे जू का रास
नहीं मिलेंगे स्वर्ग में
है ये ब्रज के पास श्री राधा
है ये ब्रज के पास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − 9 =