Top Bhojpuri Shayari, Bhojpuri Love Romantic Shayari Status

Bhojpuri Shayari:-Enjoy the Latest Collection of Bhojpuri Shayari, Bhojpuri Love Romantic Shayari Status, for everyone,Because everyone wants different Status.

Top Bhojpuri Shayari
Top Bhojpuri Shayari

Top Bhojpuri Shayari:-

 


 

हमरा ई पत्थर के डर ना रहीत.
अगर शीशा के हमार घर ना रहीत.
जरुर हम भी खेलती प्यार के बाजी,
अगर दिल टुटे के डर ना रहीत.

 


 

अँखियाँ खोली तो चेहरे तोहरे हो,

बंद करीं तो सपनवा तोहरे हो,

गम जिन्दगिया में हो तबहूँ हम मुस्कुरा के रहब,

बस हमेशा तोहर हाथ हमरे हथवे में हो।

 


 

जहिया तू हमरा के देख के हंस गईलु

हम समझ गए नहीं तू हमारे से फस गईलू

 


 

तारा अखिया के काजल आ गाल के तील

चुरा के ले गईल हमार दिल

 


 

नजरअंदाज केतना करी उनके जे नजर के समने बा..!
उनकर का करी, जे दिले में बस गईल बा..!!

हम ऐतना मतलबी नईखी जे चाहे वाला के धोखा देब..!
बस हमके समझल हर केहू के बस के बात नईखे..!!

 

हमरा दिलवा के धड़कन बस तोहरे खातिर बा,

हमार हर मन्नत तोहरे ख़ुशी खातिर बा,

तोहार हर इशारा हमार दिल चुरा लेवेला

अब ता इ जिनगी हमर बस तोहरे प्यार खातिर बा।

 


 

दिलासा देके अब आउर ना सम्हाल हमके
अईसन मखमली तूफान में न पाल हमके
कब ले कौनो अनहोनी क डर रहे
ईहवें रहे द ना निकाल हमके |

 


 

बंद होठवा से कुछ न कहके,
अखिये से  प्यार जतावेलू..!
जब भी आवेलु,
हमके हमरे से ही चुरावेलू..!!

 


 

खुशी के एगो दुकान रहीत.
दुकान में हमार पहचान रहीत.
खरीद लेती हम सब खुशी दोस्त खातिर,
चाहे ओकर कीमत हमार जान रहीत.


 

अब त एह दिल में खाली, गम के सैलाब बा..!
तहरा से मिलल जख्म, ‘तहरा’ से लाजबाब बा,
ख़ुशी भईल की, तू कुछ देहलू त सही हमके,
आज तहरे वजह से हाथ में, फेरु धराइल शराब बा..!!

 


 

 

तहरे दुआ में अटकल रहे हरमेसे हमार दिल
न जाने काहे तहरा सिवा कुछ आउर मांगबे ना कइनी |

 


 

हम‬हु केहू के ‪दिल‬ के ‪हवालात‬ में ‪‎कईद‬ रहीं..!
फिर‬ न जाने काहे ‪‎गईर के ‪‎जमानत‬ पर हमरा के रिहा‬ कर दिहलन..!!

 


 

 

जे केहू कभी आपन रहल उ आज एक अनजान हो गईल, जे अब मिल ना सकेला आज एक नई पहचान हो गईल

 


 

तोहरे आवे से जिनगी हमार कितना सुनर बा,

दिलवा में सजल तोहार मोहिनी सूरत बा,

न जइहा दूर कबहुँ भूलके हमसे,

हर एक रहियन पे हमरा के तोहार जरुरत बा।

 


 

हर खुशी दिल के करीब ना होला.
जिनगी गम से दूर ना होला.
ए दोस्त, दोस्ती बचाके रखिह काहे की
दोस्ती सब केहु के नसीब ना होला. |

 


हमार मन्जिल हमके छोड़ गईल त रास्ता हमके संभाल लेहलस..!
जा जिनगी तोहार जरूरत नईखे हमके ई हादसा पाल लेहलस हमके..!!

 

उजरल घर में अब केके ढूँढ़त बाड. तु..!
बरबाद भईला पर ओकर ठिकाना ना रहेला..!!

 

 

 

मुस्कुराये क त अब वजहे याद नईखे रहत..!
बड़ी नाज़ से पालत बाड़े हमार गम हमरा के..!!

 

 

रात में जागल मत कर् सूत लीहल कर्
अइसहीं मन में आँसू मत रोकल कर् रो लिहल कर्
हमरा ईयाद में त हरमेसे रहेलस गुमसुम
कबो कबो अपनो के ईयाद कर् लिहल कर्

 

 

अब अपना प्यार में हमरा के इ सन्तोष करेके बा,

की तू सच कहा न कहा लेकिन तोहरा पे विश्वास करके बा,

कबसे तोहके जगेके अदतिया लागल का भईल तबो,

हमरा के तो हर समइया तोहार इंतज़ार ही करेके बा।

 

 

 

सगरी दुनिया ऱूढ जाय त तकलीफ ना होत..!
बाकि तु खामोश रहेलस त तकलीफ होला..!!

 

 

दरद दे के दरद बढावल ना जाला
दीप जलाके दीप बुझावल ना जाला
प्रेम केतनो बढ़ी पर बेगाना ना होई
दिल लगाके दिल हटावल ना जाला |

 

 

तोहार दिल हमार दिल बराबर हो नाहीं सकता.. !
उ शीशा हो नाहीं सकता इ पत्थर हो नाहीं सकता.. !!

 

 

सब तरहे क सिकवा सह लेही ला
जिनगी य़ेही तरे जी लेही ला
मिला लेही ला हाथ जेसे दोस्ती क
ओइ हाथ से फिर जहरो पीये पड़ेला |

 

 

 

तनका खुशियां तनका गम देके तु टाल गइला
जीनगी क एगो आउर साल गइल ..!
खतम भइल 2020– सुवागत बा 2021-
रउवा सभे लोग के नववर्ष मंगलमयी हो ..!!

 

 

सब त रूठ ले रहल हमसे , एगो तू हु रूठ गईला त कउनो बात नाही !
हम त कबसे रहली एकेलै , जे तुहूँ छोड़ गईला त कउनो बात नाही !!

 

 

जिंदगी भर हम जिंदगी से दूर रहनी ,
तहरा खातिर हम अपनों से दूर रहनी !
अब एह से बढ़ के वफ़ा के सजा का होई ,
तहार हो के तहरो से दूर रहनी !!
हमके कब चाह रहे कि हमके ऊ चाँद मिले य़ा असमान मिले..!
खाली एगो तमन्ना रहे की हमार ऊ सपना के जहाँ मिले..!!

 

 

हमार अधूरे ख़्वाहिश बन के न रह जइह तु ..!
काहे कि दोबारा जीये क इरादा अब नईखे ..!

 

 

तनहा रहल त मोहबबत करे वाला क रशम-वफा हवे
अगर फूल खुशी खातिर होत त केहू जनाजा पर नाही डालत.

 

 

मुस्कुरा जे छुपा लेला आपन आंसू..!
अपने हालत से ऊ गैरन के भी रुला देला..!!

 

 

नजर चुरावे ल तु काहे भला
केहू अपने ही चीज़ चुरावे ला का.

 

 

नजर चुरावे ल तु काहे भला..!
केहू अपने ही चीज़ चुरावे ला का..!!

 

 

सोलहो कला से युक्त अद्भुत मोहक चन्द्रमा,
झर झर झरत चांदनी आऊर किरण से बरसत ई अमृत बूंद
सगरी ब्रम्हांड नृत्यरत बा…!
गगनवा मे तारिकाएँ जइसे शरद के पूर्ण चँन्दवा के सनमुख बिहंसत बा
पर हम उदास बानि जानत बाड़ काहे ?
तु जे नईखस हो…!!

 

 

नजर चुरावे ल तु काहे भला..!
केहू अपने ही चीज़ चुरावे ला का..!

 

 

हजार गो दोस्त बना लिहल आसान बा. एगो दोस्त बनावल मुश्किल! जे हजार गो दुश्मनन का सामने दोस्ती निभा सको

 

 

हमरे मन क कमरा जवन कहिये से खाली पड़ल बा
ओके तहार क़दम क आहट भी, शोर जइनस लागेला |

 

 

चलअ अच्छा भइल अब सुकून से त सुत सकेली हम..! बड़ी मुश्किल से आज दिल क मकांन खाली मिलल बा..!!

 

 

हमरे मन क कमरा जवन कहिये से खाली पड़ल बा..!
ओके तहार क़दम क आहट भी, शोर जइनस लागेला..!

 

 

रात कब हो गइल, खुशी कब खो गइल, आँख कब रो गइल?
तोहरा वियोग में अस डूबल रहीं कि कुछ पता ना चलल |

 

 

समय से पहिले आ भाग्य से अधिका, ना तऽ मिलल बा, ना मिली. बाकिर तहरा का मालूम कि तहरा भाग्य में कतना बा आ तहार समय कब आई ? एहिसे तू बस हरदम लागल रहऽ !

 

 

Dhiraj dharah hamhu bekarar hai
Tu hamar jaan hau ta hum tohar pyar hai
Biswash rakhiha aapna pyar pe
Kassam se kahile humtohar hai.

 

 

बिन बात के रूठे क आदत रहे,
केहू आपन क साथ पावे क चाहत रहे,
तु खुश रहअ, हमार का..!
हम त आइना हई,
हमके त टूटे क आदत हवे..!

 

 

मौसम क मिसाल देही या तोहार
केहू पूछत बा कि बदले केकरा आवेला.
मस्त भोजपुरी शायरी

 

 

ई उदास कोहरा पे सवार हवे
हमार बे-पनाह अश्क़न क बरसात ई अऊर बात हवे,
कि तक़दीर हमरा से लिपट के रोवलस,
बाकी ..बाज़ू त तहरा देख के ही फैलईले रहीं

 

 

दरद दे के दरद बढावल ना जाला
दीप जलाके दीप बुझावल ना जाला
प्रेम केतनो बढ़ी पर बेगाना ना होई
दिल लगाके दिल हटावल ना जाला
भोजपुरी शायरी |

 

 

आँसू क समन्दर ख़रीदे में,हर सुकून गवां दिहली हम
ई दर्द का समा,बड़ी मुश्किल से कमइले बानी हम.

 

 

महान लोग रास्ता बनावेला
छोटका लोग बस पाछा पाछा चल देला
कामकाजी लोग एसएमएस करेला
निकम्मा लोग बइठल पढ़त रहेला..

 

 

दिलासा देके अब आउर ना सम्हाल हमके
अईसन मखमली तूफान में न पाल हमके
कब ले कौनो अनहोनी क डर रहे
ईहवें रहे द ना निकाल हमके |

 

 

हमके कब चाह रहे कि हमके ऊ चाँद मिले य़ा असमान मिले!

खाली एगो तमन्ना रहे की हमार ऊ सपना के जहाँ मिले !!

 

 

एह उम्मीद के टूटे मत दीहऽ दिल के लगी के कम होखे मत दीहऽ दोस्त मिलिहन बहुते हमरो ले बढ़िया बाकिर केहू के हमार जगहा लेबे मत दीहऽ

 

 

बेशक’ हमार जिनगी तहरा साथ क मोहताज नईखे,
पर ई ‘दिल’ मे तोहार एहसास के तलबगार आज भी बा 

 

 

काबो ई मत पूछीह कि हाल कईसन बा,

पहीले ज़ईसन कि अब ना ओइसन बा.?

ना जाने कईसे जी लेनी,
बहे ला जे लोर तहरा याद मे, त ताड़ी समझ के पी लेनी…

 

 

मोहबत पर य़ेतना यकिन ना रहे जेतना तहरा पर बा ,
बस येतना खयाल रखिह अगर वफा ना सकेल त धोखा भी मत दीह !!..

 

 

प्रीत क ई कईसन रित निभवलू
प्रेम शीश महल के खंडहर बनवलु

 

 

मुहब्बत ऊ बारिश हअ ..
जेके छूवे के कोशिश में ..
हथवा त गीला हो जाय़ेला .. !
आऊर अखिय़ो नम रहेला..
बाकि हाथ फिर भी खालीय़े रहेला.. !!

 

 

 

दरद दे के दरद बढावल ना जाला,
दीप जलाके दीप बुझावल ना जाला..!
प्रेम केतनो बढ़ी पर बेगाना ना होई,
दिल लगाके दिल हटावल ना जाला..!!

 

 

मुँह पर बड़ाई आ पीठ पाछा बुराई करे वालन से दुनिया भरल बा. दोस्त ऊ होला जे मुँह पर दोष बतावे आ पीठ पाछा बड़ाई करे.

 

 

निशा जब नीला आँचारा मे सबका समावेले, त अईसे मे जाने काहे रौरे याद आवेले !.

 

 

चेहरा सुंदर होखे त छुपावल ना जाला,
चाहे वाला के आपना सतावल ना जाला।
ई नजरियां ना सबके पसंद करेला,
आपना आशिक़ के अइसे रोवावल ना जाला।।

 

 

आँख में जमुना जी क पानी ढल रहल बा
तोहरे ही आग से दिल आज जल रहल बा
जे केहू कभी आपन रहल उ आज एक अनजान हो गईल बा
जे अब मिल ना सकेला आज एक नई पहचान हो गईल बा.

 

 

प्यार कमजोर दिल से कईल ना जा सकेला,

जहर दुश्मन से लिहल ना जा सकेला,

दिल में बसेला सुरत जवना प्यार के,

ओकरा बिना त जियल ना जा सकेला।

 

 

हम तोहरे चाही तू हमका चाह
हम तोहार हई इतना न तड़पावअ,
तहर प्यार में एहसान जादू बा की,
बिन बुलावा हम खिचल चल आई.

 

 

ना चाहत बा सितारन के.

ना तमन्ना बा नजारन के.

तहरा जईसन एगो दोस्त मिलल त,

का जरुरत बा हजारन के.

 

 

नींद छुपेले जहाँ पे ,
ख्वाब सजेले जहाँ पे !
खबर ई आईल बा उहां से ,
कि केहू तोहरे जइसन नाहीं !!.

 

 

खामोशी से हमके ऊ फुसला देली
हमार रात के नीद और दिन के चैन उडा देली
हम ता बेचैन हो के बस रही जानी
हमारा दिल में आग उ लगा देली |…

 

 

आज सोचनी की तोहरा के सपना कही,
पर सपना त सच होखेला ना.
तू ख्याले में रोज आईल कर,
लोग कहेला की ख्याल कबो बदलेला ना…

 

 

दर्द के केहु से बतावे के जरुरत का बा
केहु के दिल से भुलावे के जरुरत का बा
जब नेह लागल तोहरा से ए गोरिया
त आजु जिही आ मरी देखावे के जरुरत का बा…

 

 

पवन के छुअन से, केहु के एहसास होत बा,
ईहो अब अपना साथ, कुछ उडावे लागल बा।
अलगे एगो खुश्बु, साँस से दिल मे मिलत बा,
अउर हर महक, अब त बहकावे लागल बा।।

 

 

मुस्कुरा जे छुपा लेला आपन आंसू..!
अपने हालत से ऊ गैरन के भी रुला देला..!

 

दिल रोअता तहरा बिना, ई बताईं कइसे
आपन अर्थी खुद ढोव तानी, ई बताईं कइसे
तू त रह रहल बाडू ससुराल में खुशी-खुशी,

 

खुशी अउर गम त संगे संगे मिलल
तबो अपना धुन में चलल जात रहनी
सुर में गम आ खुशी के गावत रहनी
रो रो के उनकर याद मिटावत रहनी.

 

Recent Post-


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − two =